पथदीप

Rs.55.00
Pathdeep
Pathdeep
Translator: 
Kalyani Phadake
VRM Code: 
3049
Publication Year: 
2013
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
176
Volumes: 
1
Rs.55.00

अपनी जीवन यात्रा सुखकर हो इसलिए पथदीप की आवश्यकता होती है। वह पथदीप होता है संस्कारो का। उसमें माँ-बाप, गुरुजन, बड़ों के आदर्श आदि का समावेश होता है। ऐसा ही पथदीप हमें स्वामीजी के कथाओं से मिलेगा। स्वामीजी के सहवास में कितने ही लोगों के जीवन में परिवर्तन आया। इतना ही नहीं उनके विचारों के प्रभाव के कारण पूरा विश्व गहरी नींद से जाग उठा।

यह कथाओं का पथदीप जैसे बच्चों को प्रेरणा देगा, आत्मविश्वास को जगायेगा वैसे ही अभिभावकों का भी मार्गदर्शन करेगा ऐसा विश्वास है।

Share this