Due to migration of website currently new registration and order is stopped, we are trying our best to live by 22nd August 2018

Hindi

Here are the lists of Publications in Hindi from Vivekananda Kendra Prakashan and all Projects

विवेकानंद कन्या भगिनी निवेदिता

Rs.85.00
विवेकानंद कन्या भगिनी निवेदिता
विवेकानंद कन्या भगिनी निवेदिता
Translator: 
Sangita Soman
VRM Code: 
3196
Publication Year: 
2017
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
212
विवेकानंद कन्या भगिनी निवेदिता
विवेकानंद कन्या भगिनी निवेदिता

भगिनी निवेदिता मार्गरेट नोबल वंश से गौरी तथा जन्म से ही आयरिश थी।

स्वामी विवेकानंद की संपर्क में आने के बाद 30 वर्ष की अपनी कृपा यू मे उनका शिष्य वह ग्रहण कर भारतवर्ष पधारी। स्वामी जी ने उन्हें निवेदिता नाम दिया उसका अर्थ जीवन समर्पित निवेदित किया ऐसा है अभी देने अपने में आमूलचूल परिवर्तन कर हिंदू संस्कृति को पूर्ण मनोयोग से अपनाया तथा सन्यास व्रत की दीक्षा ली।

प्लेग के प्रादुर्भाव के समय कोलकाता के रास्ते झाड़ू से बुहारकर साफ़ किए तथा रुग्ण सेवा भी की। एक कन्या पाठशाला स्थापित कर महिला शिक्षा का भी कार्य किया। ब्रिटिश राज में क्रांतिकारियों का मार्गदर्शन कर उन्हें प्रोत्साहित किया।

प्राणायाम

Rs.30.00
प्राणायाम
Publication Year: 
2017
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
42
Volumes: 
1
Language: 
Hindi

प्राणायाम: मन अनुशासन का श्वसन विज्ञान



Get the eBook "प्राणायाम" from Google Play Store (view sample below)


पदावली

Rs.25.00
पदावली
पदावली
ISBN: 
81-89248-35-9
VRM Code: 
1532
Edition: 
21
Format: 
Soft Cover
Pages: 
148
Volumes: 
1

"Padawali" book contains all Bhajan, Shloka, Mantra & Patriotic Song depicted/written in Vivekananda Kendra, kanyakumari's Padawali Book, and from this "Padawali" Karyakarta sing/chant Bhajan, Shloka, Songs in various activities of Vivekananda Kendra like "Bhajan Sandhya", "Shibir" aka Camps, "Samskar Varg", "Swadhyay Varg" it collectively.

You can join this noble effort by contributing your time for the society, To Make the World Noble. aka Krinvanto Vishwam Aryam : कृण्वन्तो विश्वम आर्यम् RugVeda (9.63.5)

Ref :

क्रीड़ा योग

Rs.50.00
क्रीड़ा योग
Translator: 
Sandhya Kumari
Publication Year: 
2016
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
126

श्री (स्वर्गीय) दत्ताराम पोळ जो कि विवेकानन्द केन्द्र के वानप्रस्थी कार्यकर्ता रह चुके हैं, अन्य संगठनात्मक गुणों के साथ विभिन्न खेल सीखने के माध्यम से शिविरार्थियों में उनकीछाप विशेष रूप से थी ।
वे वृद्धावस्था में भी युवा का जोश रखते थे और युवाओं में विशेषरूप से प्रचलित थे । यह पुस्तक 'क्रीड़ा योग' उन्हीं की देन है - जिन खेलों से न केवल शरीर ही चुस्त होगा बल्कि मन भी आनन्दित होगा ।
1 : सामूहिक क्रीड़ा
2 : मण्डल क्रीड़ा
3 : एक पंक्ति क्रीड़ा
4 : दो पंक्ति क्रीड़ा
5 : गृहस्थित क्रीड़ा







दिनचर्या

Rs.25.00
दिनचर्या
Translator: 
Sandhya Kumari
VRM Code: 
1539
Publication Year: 
2015
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
64
Volumes: 
1
Language: 
Hindi
दिनचर्या

दिनचर्या : सफल ही नहीं सार्थक जीवन के लिए।



Get the eBook "स्दिनचर्या" from Google Play Store (view sample below)


Let's Sing

Rs.20.00
Let's Sing
Let's Sing
VRM Code: 
1682
Publication Year: 
2004
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
79
Language: 
Tamil
Let's Sing
Let's Sing

प्रेरक परिचय

Rs.35.00
Preak Parichay(प्रेरक परिचय)
Translator: 
Nivedita Raghunath Bhide
VRM Code: 
1709
Publication Year: 
2007
Edition: 
3
Format: 
Soft Cover
Pages: 
56
Language: 
Hindi
Preak Parichay(प्रेरक परिचय)

यह काम तुम्हें शोभा नहीं देता - बषपन से ही यह वाक्य हमें अनुशासित करता आया है। माँ ने हमें इसी तरह अपने लिए योग्य कर्म करने की शिक्षा दी और अयोग्य कर्म करने से परावृत किया। भगवान् श्री कृष्ण ने भी रण से पलायन करने के इच्छुक अर्जुन को इन्हीं शब्दों से लताड़ा था। हमारा कर्म ही हमारा परिचय बनता है। कर्म में कुशलता को प्राप्त करने के लिए ही हम सदैव प्रयत्न करते रहते हैं।

Syndicate content