Swami Vivekananda

Kathanjali (कथांजली)

Rs.50.00
Kathanjali (कथांजली)
Kathanjali (कथांजली)
Publication Year: 
2013
Edition: 
2
Format: 
Soft Cover
Pages: 
88
Language: 
Marathi
VRM Book Code: 
3030
Kathanjali (कथांजली)
Kathanjali (कथांजली)

Rousing Call To Hindu Nation

Rs.50.00
Rousing Call To Hindu Nation
Rousing Call To Hindu Nation
ISBN: 
81-89248-10-3
Publication Year: 
1963
Edition: 
10
Format: 
Soft Cover
Pages: 
188
Volumes: 
1
Language: 
English
VRM Book Code: 
1518
Rousing Call To Hindu Nation
Rousing Call To Hindu Nation

State of affairs of our nation lends a new significance to the message of Swami Vivekananda. For his was the message of strength-the strength of the body, the mind and the will. And this strength in all its aspects is the greatest need of the hour. Swami Vivekananda wanted the nation to have “muscles of iron and nerves of steel inside which dwells a mind of the same material as that of which the thunderbolt is made”.

Read Book Online :

Arise! Awake!

Rs.75.00
Arise! Awake!
Arise! Awake!
Publication Year: 
2012
Format: 
Soft Cover
Pages: 
126
Language: 
English
VRM Book Code: 
1505
Arise! Awake!
Arise! Awake!

विवेकानन्द के एकनाथ

Rs.35.00
विवेकानन्द के एकनाथ
Publication Year: 
2015
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
104
Volumes: 
1
Language: 
Hindi
विवेकानन्द के एकनाथ

स्वामीजी का एक स्वप्न था कि पवित्रता का तेज, ईश्वर के प्रति श्रध्धा तथा मृगेन्द्र के सामर्थ्य से युक्त, दीन-दलितों के प्रति अपार करुणा लिए हुए सहस्त्र युवक-युवती हिमालय से लेकर कन्याकुमारी तक सर्वत्र संचार करते हुए मुक्ति, सेवा अौर सामाजिक उत्थान तथा सभी प्रकार के समानता का आह्वान करेंगे तभी यह देश पौरुष से युक्त होकर जगमगा उठेगा।

स्वामी विवेकानन्द के आलोक में स्त्री सशक्तिकरण

Rs.15.00
स्वामी विवेकानन्द के आलोक में स्त्री सशक्तिकरण
Translator: 
Chandrakumar Pathak
Publication Year: 
2015
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
32
Volumes: 
1
स्वामी विवेकानन्द के आलोक में स्त्री सशक्तिकरण

स्वामी विवेकानन्द का दृष्टिकोण और भारतीय स्त्री जीवन-भावी पथ

Rs.45.00
स्वामी विवेकानन्द का दृष्टिकोण और भारतीय स्त्री जीवन-भावी पथ
Translator: 
Sumant Vidwans
Publication Year: 
2014
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
116
Volumes: 
1
VRM Book Code: 
3094
स्वामी विवेकानन्द का दृष्टिकोण और भारतीय स्त्री जीवन-भावी पथ

अात्म - नियन्त्रण सभी के लिए आवश्यक है, किन्तु स्त्रियों के लिए इसकी और अधिक आवश्यक है क्योंकि शक्ति जितनी होती है, उसे सही मार्ग पर रखना भी उतना ही अधिक महत्वपूर्ण और आवश्यकता होता है। उदाहरण के लिए, परमाणु शक्ति अधिक शक्तिशाली होती है और इसलिए इसकी सुरक्षा व उपयोग के लिए अनेक सुरक्षा उपाय करना आवश्यक होता है। शक्ति के भी अनेक प्रकार होते हैं। जैसे कठिन शक्ति और सौम्य शक्ति, सकल शक्ति और सूक्ष्म शक्ति। स्त्री सौम्य शक्ति और सूक्ष्म शक्ति का भण्डार है और इसकी अभिव्यक्ति आक्रमक शक्ति की अभिव्यक्ति से भिन्न होती है। यदि एक स्त्रि किसी पुरुष से स्पर्धा करती है और अपने मुद्दों क

Syndicate content