Yoga

योग एकात्मिक दृष्टि के जीवनपथ का आधार स्तम्भ

Rs.35.00
योग एकात्मिक दृष्टि के जीवनपथ का आधार स्तम्भ
योग एकात्मिक दृष्टि के जीवनपथ का आधार स्तम्भ
Translator: 
Dinanath Phulvadakar
Publication Year: 
2014
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
64
Volumes: 
1
योग एकात्मिक दृष्टि के जीवनपथ का आधार स्तम्भ
योग एकात्मिक दृष्टि के जीवनपथ का आधार स्तम्भ

आज की आधुनिक पीढ़ी बहुत तीव्र गति से आगे बढ़ रही है। अभी तक सारी स्थिति अनाकलनीय लग रही है। इसका परिणाम एक ओर तनावग्रस्त जीवन के कारण मनुष्यों के सम्बन्ध में विभाजन की रेखाएँ दुखपूर्ण दे रही हैं। मानसिक तनावग्रस्ता से मनुष्य की प्रगति रुकी हुई है। अत अपने कष्ट का लाभ, सही आनन्द उसे क्वचित मिलता है।

इसलिए योग ही आज अत्याधिक महत्वपूर्ण एवं उपयुक्त है, ऐसा अनुभव हो रहा है । केवल शारीरिक व्यायाम के रुप में सामान्यता: जिसका विपर्यास हुआ है। उस योग के सम्बन्ध में जाग्रति की नितान्त आवश्यकता है।

सूर्यनमस्कार कैसे करें ?

Rs.10.00
सूर्यनमस्कार कैसे करें ?
Publication Year: 
2014
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Volumes: 
1

सूर्यनमस्कार में जिस स्थिति में श्वास लेकर छोडना है तो श्वास छोडने के समय ऊँ ध्वनि का उच्चारण कर सकते हैं। इससे शरीर में और अधिक शिथिलता का अनुभव होगा।

श्वसन के समय भी पूर्ण शरीर शिथिल होने पर एक या तीन बार ऊँ ध्वनि का उच्चारण कर सकते हैं।



सूर्यनमस्कार की विशेषतााएँ


१) यह एक अत्यन्त सरल पद्धति है, जिसे आठ (आधुनिक मत में छ:) वर्ष की आयु के बालक से लगाकर सामान्य शक्ति वाले वृद्ध व्यक्ति तक सभी कर सकते हैं।

Yoga - The way of life based on the vision of oneness

Rs.30.00
Yoga - The way of life based on the vision of oneness
Yoga - The way of life based on the vision of oneness
VRM Code: 
1534
Publication Year: 
2013
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
75
Volumes: 
1
Language: 
English
Yoga - The way of life based on the vision of oneness
Yoga - The way of life based on the vision of oneness

The present generation is moving at a very fast pace, hitherto unknown. The result being economic prosperity, technological development at the one end and streeful lives, and fractured inter personal relationships at the other end. Man seldom enjoys the fruits of his labour as he is bogged down because of the stress.

This makes Yoga much more relevant today. There is a compelling need to create an awareness about "Yoga" which is commonly misconstrued as a mere physical exercise.

कर्मयोग (Karmayoga)

Rs.75.00
कर्मयोग (Karmayoga)
कर्मयोग (Karmayoga)
Translator: 
Sumant Vidwans
VRM Code: 
3006
Format: 
Soft Cover
Pages: 
152
Volumes: 
1
कर्मयोग (Karmayoga)
कर्मयोग (Karmayoga)

"जैसा कि मैं सदैव तुम्हें कहता हूँ कि किसी भी व्यक्ति को पापी कहकर उसकी निन्दा मत करो । तुम उसका ध्यान उसके भीतर छिपी हुई दिव्य शक्ति की ओर आकर्षित करो। ठीक उसी प्रकार, जिस प्रकार से भगवान, अर्जुन से कहते हैं - "नैतत्त्वय्युपपद्यते तुम्हें यह शोभा नहीं देता। तुम तो समस्त बुराइयों से दुर अविनाशी आत्मा हो। तुम अपने स्वरुप को भूल रहे हो अत: स्वयं को पापी समझते हुए तुम शारीरिक कष्टों और मानसिक पीड़ाओं से त्रस्त हो, तुमने स्वयं को एेसा बना लिया है - तुम्हें यह शोभा नहीं देता ! भगवान कहते हैं - "क्लैब्य मा स्म गम:" पार्थ - हे पृथा पुत्र !

Meditation : Concepts and Process

Rs.70.00
Meditation : Concepts and Process
Meditation : Concepts and Process
VRM Code: 
1867
Publication Year: 
2012
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
90
Volumes: 
1
Language: 
English
Meditation : Concepts and Process
Meditation : Concepts and Process

योग

Rs.50.00
Yoga (योग)
Yoga (योग)
ISBN: 
81-89248-33-2
VRM Code: 
1614
Edition: 
4
Format: 
Soft Cover
Pages: 
78
Yoga (योग)
Yoga (योग)

Pranayamam (பிராணாயாமம்)

Rs.30.00
Pranayamam (பிராணாயாமம்)
Pranayamam (பிராணாயாமம்)
ISBN: 
81-89248-72-18
VRM Code: 
1471
Publication Year: 
2015
Edition: 
4
Format: 
Soft Cover
Pages: 
43
Language: 
Tamil
Pranayamam (பிராணாயாமம்)
Pranayamam (பிராணாயாமம்)

Yogam (யோகம்)

Rs.45.00
Yogam (யோகம்)
Yogam (யோகம்)
ISBN: 
81-89248-38-3
VRM Code: 
1492
Publication Year: 
2015
Format: 
Soft Cover
Pages: 
94
Yogam (யோகம்)
Yogam (யோகம்)

Sooriya Namaskaram (சூரிய நமஸ்காரம்)

Rs.15.00
Sooriya Namaskaram (சூரிய நமஸ்காரம்)
Sooriya Namaskaram (சூரிய நமஸ்காரம்)
ISBN: 
81-89248-43-3
VRM Code: 
1502
Publication Code: 
BT06
Edition Year: 
June - 2016
Edition: 
11ED
Format: 
Soft Cover
Pages: 
28
Language: 
Tamil
Sooriya Namaskaram (சூரிய நமஸ்காரம்)
Sooriya Namaskaram (சூரிய நமஸ்காரம்)

Sarwansathi Pranayam (सर्वांसाठी प्राणायाम)

Rs.40.00
Sarwansathi Pranayam
Sarwansathi Pranayam
VRM Code: 
1890
Publication Year: 
2009
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
56
Volumes: 
1
Language: 
Marathi
Sarwansathi Pranayam
Sarwansathi Pranayam
Syndicate content