Ma. Eknathji Ranade

Learning for a Manager (Vivekananda kendra and Eknathaji Ranade)

Rs.125.00
Learning for a Manager (Vivekananda kendra and Eknathaji Ranade)
ISBN: 
81-89248-103-00
Publication Year: 
2015
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Volumes: 
1
Language: 
English
VRM Book Code: 
1524
Learning for a Manager (Vivekananda kendra and Eknathaji Ranade)

The task of constructing the mid sea monument is not an ordinary one. A work of that magnitude involves a lots of ordels. Mobilizing the manpower, getting the requisite permissions from the authorities, collecting the needed funds, and organizing the work is quite a task. Mananeeya Eknathji did all these and much more. He gathered the right kind of work force, and ensured that the monument stands out as an exemplary one.

Sevaye Sadhanai(சேவையே சாதனை)

Rs.70.00
Sevaye Sadhanai(சேவையே சாதனை)
Sevaye Sadhanai(சேவையே சாதனை)
Publication Year: 
2015
Edition: 
2
Format: 
Soft Cover
Pages: 
208
Language: 
Tamil
VRM Book Code: 
1482
Sevaye Sadhanai(சேவையே சாதனை)
Sevaye Sadhanai(சேவையே சாதனை)

Eknathji Uvach(एकनाथजी उवाच)

Rs.10.00
Eknathji Uvach(एकनाथजी उवाच)
Eknathji Uvach(एकनाथजी उवाच)
Publication Year: 
2014
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
32
Language: 
Marathi
VRM Book Code: 
3083
Eknathji Uvach(एकनाथजी उवाच)
Eknathji Uvach(एकनाथजी उवाच)

Eknath Ranade

Rs.20.00
Eknath Ranade
Publication Year: 
2015
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
32
Volumes: 
1
Language: 
English
Eknath Ranade

Pathey (पाथेय)

Rs.15.00
Pathey (पाथेय)
Pathey (पाथेय)
Publication Year: 
2014
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
48
Language: 
Marathi
VRM Book Code: 
3085
Pathey (पाथेय)
Pathey (पाथेय)

Kendra Unfolds

Rs.65.00
Kendra Unfolds
Kendra Unfolds
ISBN: 
81-89248-66-09
Publication Year: 
2005
Format: 
Soft Cover
Pages: 
437
Language: 
English
VRM Book Code: 
1734
Kendra Unfolds
Kendra Unfolds

Eknathji(ஏக்நாத்ஜி)

Rs.70.00
Eknathji(ஏக்நாத்ஜி)
Eknathji(ஏக்நாத்ஜி)
Publication Year: 
2010
Format: 
Soft Cover
Pages: 
311
Language: 
Tamil
VRM Book Code: 
1639
Eknathji(ஏக்நாத்ஜி)
Eknathji(ஏக்நாத்ஜி)

विवेकानन्द के एकनाथ

Rs.35.00
विवेकानन्द के एकनाथ
Publication Year: 
2015
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
104
Volumes: 
1
Language: 
Hindi
विवेकानन्द के एकनाथ

स्वामीजी का एक स्वप्न था कि पवित्रता का तेज, ईश्वर के प्रति श्रध्धा तथा मृगेन्द्र के सामर्थ्य से युक्त, दीन-दलितों के प्रति अपार करुणा लिए हुए सहस्त्र युवक-युवती हिमालय से लेकर कन्याकुमारी तक सर्वत्र संचार करते हुए मुक्ति, सेवा अौर सामाजिक उत्थान तथा सभी प्रकार के समानता का आह्वान करेंगे तभी यह देश पौरुष से युक्त होकर जगमगा उठेगा।

कार्यकार्ता का गुण और विकास

Rs.6.00
कार्यकार्ता का गुण और विकास
Publication Year: 
2014
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
32
Volumes: 
1
VRM Book Code: 
3008
कार्यकार्ता का गुण और विकास

जब हमारा गुण विकास करना है, तो ये तीन मूलभूत बातें ध्यान में रखनी पड़ेगी कि मनुष्य में शरीर मन बुध्दि और समय है। दुनिया में मानव उसकी विशेषता है। और अगर मन निश्चय कर ले, तो सत्य क्या है, वह समझ सकता है। उसको हमारे यहाँ कहते है, नर का नारायण बन सकना तो हमारे यहाँ एक शब्द है आत्मकल्याण। तो नर देह किसलिए है ? आत्मकल्याण करने के लिए। आत्म का कल्याण यानि क्या? सब में आत्मा है कि नहीं है ? तो मुझे अच्छा लगता और जिस के कारण मुझे अच्छा लगता है। वैसे उसके कारण अन्य को भी आनंद होता होगा। अत: जिसमें मुझे आनंद है, वही करना। और मुझे जिसमें दुख है, वह नहीं करना।

केन्द्र दर्शन - एकनाथजी के पत्रों से

Rs.110.00
केन्द्र दर्शन - एकनाथजी के पत्रों से
Translator: 
Suresh Prabhavalakar
Publication Year: 
2005
Edition: 
2
Format: 
Soft Cover
Pages: 
368
Volumes: 
1
VRM Book Code: 
1628

मौखिक शब्द के बाद सम्प्रेषण का सर्वाधिक प्रभावकारी माध्यम पत्र है। कई लोग सूचनाओं के प्रसार के लिए पत्र लिखते हैं। महापुरुष, राष्ट्र निर्माता, समाजिक निर्माता, बड़े आन्दोलनों के नायक आदि सभी महान पत्र लेखक हैं।ऐसे पत्र विश्व - साहित्य की एक उल्लेखनीय शाखा हैं। पत्र लेखक के व्यक्तित्व और काल से परे, उनकी प्रासंगिकता की वजह से, ऐसे पत्रों का महत्व है। स्वामी विवेकानन्द, महात्मा गांधीजी, श्री गुरुजी, हमारे देश के उन महापुरुषों में हैं। जिनके पत्रों को उच्च कोटि के साहित्य का दर्जा प्राप्त हैं। माननीय एकनाथजी रानडे द्वारा लिखे गए पत्रों की तादाद, विभिन्नता और उनके प्रभाव को ध्यान में लेते वे भी इस

Syndicate content