Ma. Eknathji Ranade

विवेकानन्द के एकनाथ

Rs.35.00
विवेकानन्द के एकनाथ
Publication Year: 
2015
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
104
Volumes: 
1
Language: 
Hindi
विवेकानन्द के एकनाथ

स्वामीजी का एक स्वप्न था कि पवित्रता का तेज, ईश्वर के प्रति श्रध्धा तथा मृगेन्द्र के सामर्थ्य से युक्त, दीन-दलितों के प्रति अपार करुणा लिए हुए सहस्त्र युवक-युवती हिमालय से लेकर कन्याकुमारी तक सर्वत्र संचार करते हुए मुक्ति, सेवा अौर सामाजिक उत्थान तथा सभी प्रकार के समानता का आह्वान करेंगे तभी यह देश पौरुष से युक्त होकर जगमगा उठेगा।

कार्यकार्ता का गुण और विकास

Rs.6.00
कार्यकार्ता का गुण और विकास
VRM Code: 
3008
Publication Year: 
2014
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
32
Volumes: 
1
कार्यकार्ता का गुण और विकास

जब हमारा गुण विकास करना है, तो ये तीन मूलभूत बातें ध्यान में रखनी पड़ेगी कि मनुष्य में शरीर मन बुध्दि और समय है। दुनिया में मानव उसकी विशेषता है। और अगर मन निश्चय कर ले, तो सत्य क्या है, वह समझ सकता है। उसको हमारे यहाँ कहते है, नर का नारायण बन सकना तो हमारे यहाँ एक शब्द है आत्मकल्याण। तो नर देह किसलिए है ? आत्मकल्याण करने के लिए। आत्म का कल्याण यानि क्या? सब में आत्मा है कि नहीं है ? तो मुझे अच्छा लगता और जिस के कारण मुझे अच्छा लगता है। वैसे उसके कारण अन्य को भी आनंद होता होगा। अत: जिसमें मुझे आनंद है, वही करना। और मुझे जिसमें दुख है, वह नहीं करना।

केन्द्र दर्शन - एकनाथजी के पत्रों से

Rs.110.00
केन्द्र दर्शन - एकनाथजी के पत्रों से
Translator: 
Suresh Prabhavalakar
VRM Code: 
1628
Publication Year: 
2005
Edition: 
2
Format: 
Soft Cover
Pages: 
368
Volumes: 
1

मौखिक शब्द के बाद सम्प्रेषण का सर्वाधिक प्रभावकारी माध्यम पत्र है। कई लोग सूचनाओं के प्रसार के लिए पत्र लिखते हैं। महापुरुष, राष्ट्र निर्माता, समाजिक निर्माता, बड़े आन्दोलनों के नायक आदि सभी महान पत्र लेखक हैं।ऐसे पत्र विश्व - साहित्य की एक उल्लेखनीय शाखा हैं। पत्र लेखक के व्यक्तित्व और काल से परे, उनकी प्रासंगिकता की वजह से, ऐसे पत्रों का महत्व है। स्वामी विवेकानन्द, महात्मा गांधीजी, श्री गुरुजी, हमारे देश के उन महापुरुषों में हैं। जिनके पत्रों को उच्च कोटि के साहित्य का दर्जा प्राप्त हैं। माननीय एकनाथजी रानडे द्वारा लिखे गए पत्रों की तादाद, विभिन्नता और उनके प्रभाव को ध्यान में लेते वे भी इस

Sanghatana Ani Karyakarta (संघटना आणि कार्यकर्ता )

Rs.10.00
Sanghatana Ani Karyakarta (संघटना आणि कार्यकर्ता )
Sanghatana Ani Karyakarta (संघटना आणि कार्यकर्ता )
Translator: 
Shri. G.G. Joshi
VRM Code: 
1844
Publication Year: 
2011
Edition: 
1
Format: 
Soft Cover
Pages: 
32
Volumes: 
1
Language: 
Marathi
Sanghatana Ani Karyakarta (संघटना आणि कार्यकर्ता )
Sanghatana Ani Karyakarta (संघटना आणि कार्यकर्ता )
Syndicate content